© : All rights reserved

Saturday, February 11, 2012

लिखना जरूरी है ...

लिखना अक्सर मुझे उतना ही जरूरी लगता है ,जितना कि सांस लेना ॰ कई ऐसी चीज़ें हैं आस- पास जो विचलित कर देती हैं और उन्हे ठीक करना या मन मुताबिक करना मेरे वश में नहीं होता ॰ एक अजीब सी घुटन होती है तब और बस मेरी कलम ही निजात दिलाती है मुझे उस घुटन से ॰ मेरी कलम मेरे लिए एक अदृश्य मुक्ति का शंखनाद है ....उन जंजीरों से मुक्ति का घोष हैं ये, जो पैरों में नहीं दिमाग में लगाई जाती है ॰ पत्रकारिता के अनुभव ने बोलना सीखा दिया लेकिन चाहती हूँ उनकी आवाज़ बन सकूँ जिनके पास आज भी जुबां नहीं ॰ सिर्फ स्वांतः सुखाय नहीं लिखना चाहती मैं , शायद मेरी सीमाओं ने मुझे अब तक बहुत प्रॉडक्टीव नहीं बनने दिया समाज के लिए ॰ बहुत सारी गलत चीज़ें देखकर मैंने बंद कर लीं अपनी आँखे ॰ कभी बोल नहीं पायी और कभी बोलने नहीं दिया गया ,हर बार बहुत कुछ जमा हो गया अंदर,लेकिन लेखनी ने हर बार मुझे उबार लिया, मुक्ति दी ॰ मेरे शब्द अगर किसी एक को भी सुकून दे सके ,मुक्त कर सकें ,घुटन से निजात दिला सकें तो धन्य मानूँगी खुद को ॰ उस दिन ही सोचूँगी कि शब्दों को साध लिया मैंने ॰ तब तक बस लिख रही हूँ क्योंकि लिखे बिना रह नहीं सकती ॰

7 comments:

  1. मेरी शुभकामनाएँ !आप पढे बिना भी ना रह पाएँ !

    ReplyDelete
  2. लिखो रश्मि ....खुद को संतुष्ट करना ..आत्मा को तृप्ति देना परमात्मा को तृप्त करना है

    ReplyDelete
  3. Congrats for ur new start.......hope u reach new heights again..........

    ReplyDelete
  4. very few people can think like this. I am 100% sure that you will achieve your all goals.

    sanjeev mago

    ReplyDelete
  5. देश,समाज और स्वयं के प्रति संवेदनशील लेखक की पहली पहचान यही है रश्मि ढेरों शुभकमनाएं !!

    ReplyDelete
  6. लिखिए मित्र, क्योंकि लिखना ही मुक्ति-पथ पर प्रथम कदम है....
    अब अभिव्यक्ति के खतरे उठाने ही होंगे,
    तोड़ने ही होंगे मठ और गढ़ सब........

    ReplyDelete