© : All rights reserved

Monday, April 30, 2012

वह शिला सी मजबूत औरत ....


घर के जालों को हटाना तो दरअसल एक बहाना होता है
अपने मन पर पड़े जाले हटाना चाहती है
खाली बैठने से डरी हुई,
वह बेवजह ही व्यस्त हो जाती औरत ....

ज़िंदगी की दौड़ में,
हर बार प्रस्थान रेखा से शुरुआत करती,
पूरी कर सके दौड़....
इससे पहले ही रोक दी जाती है, 
 तब भी ,खुद को विजेता का तमगा दिये जाने पर
 वह गीली आँखों से मुसकुराती हुई औरत ....

 छोटी सी ज़िंदगी के अंदर
कई –कई जिंदगियाँ जीती,
हर बार एक नया जन्म लेती है ....
लेकिन किसी भी जन्म में
खुद से कहाँ मिल पाती है....
जीवन को जीते हुए भी  
जीवन से विलग,
वह खुद से ही नाराज़, झुंझलाई सी औरत ....

दायीं आँख फड़कने पर,
 कुछ बेचैन से मंत्र बुदबुदा कर ,
 दूर बसे बच्चों को फोन मिलाती ....
 उनके सँजो कर रखे गए सामानों में उन्हे ढूंढती,   
उम्र से भी ज्यादा चिंताएँ बटोर कर ....
वह असमय ही बूढ़ी हो आई औरत .....

अपने अधिकारों को बखूबी जानती है,
डिग्रियों के पुलिंदे को सहेजा है पूरे जतन से,
फिर भी फेंकी गयी थालियों से अपना हुनर तोलती, 
 ताउम्र अपने वजूद को बचाने की कोशिश में,
वह थक कर कुछ रुक गयी सी औरत ....

कुछ भी हो ....
जब तक जिएगी , वह टूटेगी नहीं,
जीने के बहाने गढ़ती ही रहेगी....
अपने सपनों के घर में,
उम्मीदों के नए रंग सज़ा कर
 फिर अकेली ही उसे निहारेगी,
 वह शिला सी मजबूत औरत ....

Saturday, April 07, 2012

वह कुछ नहीं कहेगी....!!


हथेलियों की लाल- हरी चूड़ियाँ खिसका कर
वह टाँकती है कुछ अक्षर
और दुपट्टे के कोने से पोंछ लेती है
अपनी हदें तोड़ते बेशर्म काजल को ....

माँ के नाम रोज़ ही लिखती है वह चिट्ठियाँ
और दफन कर देती है उसकी सिसकियों को
सन्दूक के अँधेरों में
दम तोड़ने के लिए....

वही सन्दूक जिसे माँ ने
उम्मीदों के सतरंगी रंगों से भरा था
और साथ ही भरी थीं कई दुआएं
बिटिया के खुशहाल जीवन की ....

माँ को अलबत्ता भेजी जाती हैं
कुछ खिलखिलाहटें अक्सर ही
जिसे सुनकर थोड़ा सा और
जी लेती हैं वह ....

मर ही जाएंगी वह
गर जानेंगी कि
उनकी बिटिया के माथे पर चिपकी गोल बिंदी से
 सहमा सूरज
 सदा के लिए भूल गया है
देना अपनी रोशनी ….
 और उसके घर अब चारों पहर
बसता हैं सिर्फ अंधेरा ....

कैसे जी पाएँगी वह
गर जानेंगी कि
उसकी मांग में सजी सिंदूर की  सुर्ख लाल रेखा
बंटी हुई है
कई और रेखाओं में
और झक्क सफ़ेद शर्ट पर
रेंगती आ जाती हैं वह 
उसके बिस्तर तक भी ....

कैसे सुन पाएँगी वह
कि पिछली गर्मियों
जिन नीले निशानों पर
लगाया करती थी
वह ढेर सारा क्न्सीलर
वह किसी के प्रेम की निशानी नहीं थे ....

नहीं , वह कुछ नहीं कहेगी....!!
और शायद कभी खुद भी
दफन कर दी जाएगी
किसी सन्दूक में
हमेशा के लिए ….